लक्ष्य

में शपथ लेता हूँ अपने लक्ष्य को पाने की….

हर रुकावटा और बाधा को तोड….

में हासिल करुंगा अपने लक्ष्य को….

जीतने की चाह है मुजे….

उडने का अरमान है मुजे….

कोइँ रोक नही सकता इस अटल निश्वय को….

जो समाया है मेरी रुह में….


                               हाँ मै यह शपथ लेता हूँ….

                               जाउंगा उस मंजील की शिखरा पर….

                             पाउंगा जो लक्ष्य है मेरा….

                               लक्ष्य तो हर हाल में पाना है….

Technorati Tags:

Advertisements
Posted in Poems. 1 Comment »

One Response to “लक्ष्य”

  1. Mihir Shah Says:

    Good one man…
    Keep it up…


Comments are closed.

%d bloggers like this: